What is Cloud Computing in Hindi (क्लाउड कंप्यूटिंग क्या है )

इस पोस्ट में हम जानेंगे की क्लाउड कंप्यूटिंग क्या होता है (What is cloud computing in Hindi), क्लाउड कंप्यूटिंग कैसे काम करता है  (How Cloud Computing works in Hindi),क्लाउड कंप्यूटिंग के प्रकार - Types of Cloud Computing, क्लाउड कंप्यूटिंग के उदाहरण (Examples of Cloud Computing in Hindi), क्लाउड कंप्यूटिंग के प्रयोग (Uses of  cloud computing in Hindi) इत्यादि। 

क्लाउड कंप्यूटिंग को समझने से पहले आपको क्लाउड (Cloud) या क्लाउड स्टोरेज (Cloud Storage) के बारे में जानना जरुरी है। तो चलिये पहले ये जानते हैं की Cloud Storage क्या होता है ?
What is Cloud in Hindi


क्लाउड क्या होता है -What is Cloud in Hindi ?

क्लाउड उन सर्वर को कहते हैं जो इंटरनेट के जरिये कहीं से भी एक्सेस किये जा सकते हैं। 

इन Servers पर Software, Databases और Files संग्रहित होते हैं जिनको किसी भी डिवाइस और किसी भी स्थान से एक्सेस किया जा सकता है। क्लाउड सर्वर दुनिया भर के डेटा केंद्रों में स्थित हैं। 

अब अपने जान लिया की Cloud Storage क्या होता है। तो चलिए अब जानते हैं की Cloud Computing क्या होता है ?

क्लाउड कंप्यूटिंग क्या है - Cloud Computing in Hindi ?

Cloud Computing meaning in Hindi

What is Cloud Computing in Hindi


Computing Services और IT Resources को इंटरनेट  माध्यम से On-Demand डिलीवरी की प्रक्रिया को क्लाउड कंप्यूटिंग कहा जाता है। 

अर्थात जब हम किसी सॉफ्टवेयर, डाटा या फाइल्स को इंटरनेट के माध्यम से एक्सेस करते हैं तो संभव है की ये सॉफ्टवेयर किसी ना किसी सर्वर पर स्टोर होगा।

 इस सर्वर पर सॉफ्टवेयर को Deploy और Delivery की प्रक्रिया को ही क्लाउड कंप्यूटिंग कहते हैं। 

डाटा सेंटर को बनाने, उसको मेंटेन करने में बहुत सारा पैसा खर्च होता है। इस खर्च को बचाने के लिए कंपनियां आज के समय में क्लाउड कंप्यूटिंग का सहारा ले रही हैं। 

क्लाउड कंप्यूटिंग के लिए कीसी भी क्लाउड कंप्यूटिंग वेंडर (Cloud Computing Vendor) जैसे Amazon Web Services (AWS), Microsoft Azure, Google Cloud इत्यादि से Cloud Storage rent पर लिया जा सकता है। 

क्लाउड कंप्यूटिंग के उदाहरण - Examples of Cloud Computing in Hindi

  • Netflix और YouTube: Netflix और YouTube Video streaming sites हैं जो अपना विडिओ और उनका डाटा क्लाउड स्टोरेज पर स्टोर करती हैं। 
  • Google Docs , Microsoft office 365: Google Docs और MS Office 365 की मदद से हम ऑनलाइन Document, Spreadsheet और Presentation को बना, एडिट और स्टोर कर सकते हैं। 
  • Unacadamy, Coursera, Udemy: Unacadamy, Coursera, Udemy इत्यादि ऐसे educational सॉफ्टवेयर हैं जो ऑनलाइन काम करते हैं।
  • Zoom, WhatsApp Web, Messenger, Skype:  ये सभी Messaging और Video Calling प्लेटफॉर्म हैं जो क्लाउड कंप्यूटिंग की मदद  करती हैं। 

क्लाउड कंप्यूटिंग कैसे काम करता है - How Cloud Computing works in Hindi ?

क्लाउड कंप्यूटिंग एक ऐसी टेक्नोलॉजी है जो किसी सर्वर पर deploy किये गए सॉफ्टवेयर को आपके लोकल कंप्यूटर में चलाने का प्रबंधन करता है। 

इसके मुख्यतः तीन भाग होते हैं- 
  1. Front End: क्लाउड कंप्यूटिंग में Front End सॉफ्टवेयर का वह भाग होता है जिससे यूजर Interact करता है। अर्थात Browser, सॉफ्टवेयर  या किसी और Remote Server पर दिखने वाला भाग जिसको यूजर देख, क्लिक और अन्य allow किये गए फीचर्स का उपयोग कर सकता है उसे Front End कहा है। 
  2. Back End: Back End किसी भी क्लाउड सॉफ्टवेयर के उस भाग को कहते है जो क्लाउड स्टोरेज पर संग्रहित होता है जैसे Database, Files, Folders 
  3. Central Server: सेंट्रल सर्वर फ्रंट एन्ड और बैक एन्ड के बीच समन्वय स्थापित करता है। यह फ्रंट एन्ड से प्राप्त हुए डाटा को बैक एन्ड सर्वर को देता है तथा फ्रंट एन्ड से आयी हुई Request को बैक एन्ड से प्रोसेस कर के Request किया गया डाटा provide करता है। 

क्लाउड कंप्यूटिंग के प्रयोग - Uses of  Cloud Computing in Hindi

क्लाउड कंप्यूटिंग का प्रयोग आज के समय में हर क्षेत्र में हो रहा है। 

Education 

एजुकेशन के क्षेत्र में क्लाउड कंप्यूटिंग में मदद क्रांति आ गयी है। कोरोना के समय में बहुत सारे स्टूडेंट अपनी पढ़ाई ऑनलाइन कर रहे हैं। ये सब सिर्फ क्लाउड कंप्यूटिंग से ही संभव हो पाया है। 

Entertainment 

क्लाउड  कंप्यूटिंग की मदद से Entertainment के सारे sources अब ऑनलाइन उपलब्ध हो गए हैं। जैसे YouTube, नेटफ्लिक्स, तथा अन्य OTT Platform 

Software Development  और Testing 

क्लाउड कंप्यूटिंग की मदद से हम Software Development और Testing जैसे काम ग्रुप में कर सकते हैं। 

Store Data 

क्लाउड स्टोरेज पर हम डाटा को ज्यादा quantity में स्टोर कर सकते हैं। क्लाउड कंप्यूटिंग डाटा के use को भी आसान बनता है। 

क्लाउड कंप्यूटिंग के प्रकार - Types of Cloud Computing

क्लाउड कंप्यूटर मुख्यतः तीन प्रकार होते हैं। 
  1. Public Cloud: पब्लिक क्लाउड Third party cloud service providers के द्वारा Own और मैनेज किया जाता है। पब्लिक क्लाउड के resources जैसे Servers और Databases को कोई भी client rent पर ले सकता है। Amazon Web Services (AWS), Microsoft Azure, Google Cloud इत्यादि पब्लिक क्लाउड के उदाहरण हैं। 
  2. Private Cloud: प्राइवेट क्लाउड उस क्लाउड को कहते हैं जिसे कोई कंपनी अपने आंतरिक प्रयोग के लिए बनाती है। फेसबुक के डाटा सेंटर प्राइवेट क्लाउड का उदाहरण है। 
  3. Hybrid cloud: हाइब्रिड क्लाउड पब्लिक और प्राइवेट क्लाउड  मिश्रण होता है। इसे दो या दो से अधिक कंपनियां मिलकर बनातीं हैं। हाइब्रिड क्लाउड की  मदद से ऑटोमेशन करने में आसानी होती है। 

क्लाउड कंप्यूटिंग सर्विस प्रकार - Types of cloud computing services

  1. Infrastructure as a service (IaaS): इस प्रकार के क्लाउड सर्विस में IT Resources को Rent लिया जाता है जैसे Virtual Machines (VM), Operating System, Servers तथा Storage इत्यादि। 
  2. Platform as a service (PaaS): :इस मॉडल में क्लाउड स्टोरेज वेंडर जैसे AWS अपने डाटा सेण्टर में Development Tools को Host करते हैं। जिससे की क्लाइंट कहीं से भी इंटरनेट, API या Gateway Software की मदद से उस डेवलपमेंट टूल का प्रयोग कर सकते हैं। इस मॉडल को General Software Development और Software Testing  लिए प्रयोग किया जाता है। 
  3. Software as a service (SaaS): इस मॉडल की मदद से सॉफ्टवेयर को इंटरनेट के माध्यम से डिस्ट्रीब्यूट किया जाता है जिए Web Application या Web Services भी कहते हैं। 

क्लाउड कंप्यूटिंग के लाभ - Benefits of Cloud Computing 

  • फ़ास्ट स्पीड क्लाउड कंप्यूटिंग में सामान्य होस्टिंग सर्विस से ज्यादा स्पीड होती है। 
  • Cost Saving: Data Center के मुकाबले Cloud Computing की लागत बेहद कम होती है। 
  • Global Reach: क्लाउड कंप्यूटिंग के मदद से किसी भी ऑनलाइन सर्विस को इंटरनेट की मदद से दुनिया में कही भी पंहुचा सकते हैं। 
  • Security: सामान्य होस्टिंग के मुकाबले क्लाउड स्टोरेज ज्यादा secure होते हैं। 
  • क्लाउड कंप्यूटिंग करने का सबसे बड़ा लाभ ये है की आपको किसी भी डाटा सेण्टर को मैंटेन नहीं करना है। 

Conclusion 

उम्मीद है आपको पता चल गया होगा की आज से समय में क्लाउड कंप्यूटिंग कितनी जरुरी सेवा है। 
Cloud Computing का प्रभाव हमारे जीवन के हर क्षेत्र में है। चाहे वो एजुकेशन हो या एंटरटेनमेंट क्लाउड कंप्यूटिंग का प्रयोग हर क्षेत्र में है। 

दोस्तों अगर आपको कोई और जानकारी चाहिए Cloud Computing के सम्बन्ध में तो आप मुझसे comment कर के पूछ सकते हैं। 

धन्यवाद् 
Khushwant

I don't know why but I love programming and this is what I talk about on this blog. Follow to stay updated. facebook instagram twitter whatsapp

*

एक टिप्पणी भेजें (0)
और नया पुराने